There was an error in this gadget

Tuesday, April 19, 2011

नया साल


नया साल आकर चला जाता है

पुराना साल

जाते जाते पुनः नए नए वादे कर जाता है

और फिर नया साल आता है!

अपने ही नक़ाबपोश चहरे में

जाने कितने स्याह राज़ छुपकर

जाने से पहले

बारूदी फटाखों से

शरारों की दीवाली मनाता है

दिलेरों की छाती को छलनी करवाता है

शहादतों के नारे लगवाता है

उनकी बेवाओं को ता-उम्र रुलाता है

माँ बहनों की आशाओं के दीप

अपने नापाक इरादों से बुझवाता है

और

फिर वही एहसान फरामोशी का चलन

कुछ नया करने के लिए

नया आवरण ओढ़कर

आ जाता है

पर अब उसका स्वागत कौन करे?

कौन उसके सर पर खुशियों का "ताज" रखे

जिसे खँडहर बनाकर

उसने रकीबी हसरतें पूरी कर ली

पर क्या हासिल हुआ?

हा हा कार मचा, भूकंप आया

ज़लज़ला थरथराया

और फिर सब थम गया

सिर्फ धरती का आंचल लाल हो गया

उन वीर सपूतों के लहू से

जिनकी याद हर साल

फिर ताज़ा हो जाती है

जब

पुराना साल जाता है

और नया साल आता है!!!

देवी नागरानी





Friday, April 1, 2011

धूप में निकला न कर

ग़ज़ल

डरता है परछाई से तू गर
धूप में निकला न कर

तू समय की शाख से
वक़्त कुछ माँगा न कर

ठहरे पानी में ऐ नादाँ
संग यूँ फेंका न कर

आँच में अपने ग़मों की
ऐसे तो पिघला न कर

चेहरे पे चेहरा लगाकर
आईने बदला न कर

सोच की गलियों में जाकर
सीखे बिन लौटा न कर
देवी नागरानी

गीत मेरे हैं बिन आवाज़

ग़ज़लः

बजे न टूटे दिल का साज़
गीत मेरे हैं बिन आवाज़

परदे के पीछे था साज़
फाश हुआ रातों में राज़

कहाँ हैं कोए अक्स वो सारे
जिन पर शीशों को था नाज़

ज़िंदा रखना वो उम्मीदें
बेपर करना है परवाज़

जान न पाते वो औक़ात
ढाश न होता गर वो राज़

ख़ुशबू की नीलामी हर दिन
माली चमन का है हमराज़
देवी नागरानी